मतदाता जागरुकता रैली

09 अक्टूबर 2018 । शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय के एन.सी.सी. के छात्र/छात्राओं द्वारा मतदाता जागरुकता रैली निकाली गई। इस अवसर पर एन.सी.सी.के सी.ओ.श्री डी.के. सिंह ने कैडेटो को शपथ दिलाई तथा मतदान प्रक्रिया में अपना शत प्रतिशत् योगदान देने की बात कही। कैडेटो द्वारा मतदाता जागरुकता से संबंधित नारे सौ प्रतिशत मतदान, मतदान हमारा कर्तव्य, स्वच्छ मतदान लोकतंत्र की पहचान, आदि नारों के माध्यम से जागरुकता फैलाई गई, इस अवसर पर स्वीप प्लान के नोडल अधिकारी डाॅ. शैलेन्द्र सिंह, एन.सी.सी. अधिकारी कैप्टन के.एल. दामले, प्रो. संजय देवांगन, रजिस्ट्रार श्री दीपक कुमार परगनिहा तथा कैम्पस एम्बेसडर संतराम वर्मा एवं चंदन साहू रैली में उपस्थिति थे।

संस्कृत साहित्य परिषद् का गठन एवं संस्कृत संभाषण शिविर का समापन समारोह संपन्न

        शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय के संस्कृत विभाग द्वारा संस्कृत भारती के सहयोग से 04/09/2018से 22/09/2018 तक संस्कृत संभाषण शिविर का आयोजन किया गया था।दिनांक 04/10/18 को इस शिविर का समापन समारोह विभागाध्यक्ष डॉ दिव्या देशपांडे के मार्गदर्शन में तथा प्राचार्य डॉ आर एन सिंह की गरिमामय उपस्थिति में  सफलता पूर्वक सम्पन्न हुआ।इसी अवसर पर संस्कृत साहित्य परिषद् का भी गठन किया गया।संस्कृत साहित्य परिषद केअध्यक्ष के रूप में कु चेसवनी, उपाध्यक्ष कु.शैलेष स्नातकोत्तर तृतीय सेमेस्टर,सचिव श्री परसोत्तम तथा सहसचिव के रूप में कु आभा वर्मा स्नातकोत्तर प्रथम सेमेस्टर का मनोनयन प्रावीण्यता सूची के आधार पर किया गया।कार्यक्रम का प्रारंभ वैदिक मंत्रोच्चारण,दीप प्रज्वलन एवं  सरस्वती वंदना के साथ हुआ।इस अवसर पर विद्यार्थियों द्वारा दूरवाणी संभाषण, परस्पर वार्तालाप, अनुभव कथन ,संस्कृत गीत गायन आदि कार्यक्रम प्रस्तुत किये गए।।प्राचार्य डॉ आर एन सिंह ने संस्कृत साहित्य परिषद के मनोनीत पदाधिकारियों को शुभकामनाएं देते हुए उन्हें उनके कर्तव्यो से अवगत कराया।साथ ही संस्कृत के व्यावहारिक उपयोग एवं रोजगार की संभावनाओं पर प्रकाश डाला।कार्यक्रम के अंत मे शिविर में सहभागी हुए विद्यार्थियों को प्रमाणपत्र प्रदान किये गए।कार्यक्रम का संचालन स्नातकोत्तर तृतीय सेमेस्टर के छात्र श्री तरुण देवांगन तथा कु चेसवनी ने किया।आभार प्रदर्शन श्री ललित प्रधान आर्य द्वारा किया गया।सम्पूर्ण कार्यक्रम संस्कृत भाषा में ही संपन्न हुआ।इस अवसर पर हिंदी विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ शंकर मुनि राय, संभाषण शिविर के प्रशिक्षक श्री राकेश वर्मा , श्री संदीप पटेल तथा  विशेष रूप से उपस्थित रहे।शान्ति पाठ के साथ कार्यक्रम का समापन किया गया।

 

दिग्विजय काॅलेज में मनोनीत छात्रसंघ का शपथ ग्रहण संपन्न तथा महापौर ने किया सोलर पैनल का लोकार्पण और जिम हाॅल का भूमि पूजन

06 अक्टूबर 2018 । शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय में प्रावीण्य सूची के आधार पर मनोनीत छात्रसंघ का शपथ ग्रहण आज महापौर और जनभागीदारी समिति के अध्यक्ष माननीय श्री मधूसूदन यादव के मुख्य आतिथ्य में संपन्न हुआ। नगर पालिक निगम राजनांदगांव के सभापति माननीय श्री शिव वर्मा की अध्यक्षता में आयोजित इस समारोह में प्राचार्य डाॅ. आर.एन.सिंह ने छात्रसंघ पदाधिकारियों सहित सत्तर कक्षा प्रतिनिधियों को शपथ दिलाई। इस अवसर पर महाविद्यालय की पूर्व प्राचार्य डाॅ. हेमलता महोबे और शासकीय कमला देवी राठी महिला महाविद्यालय की प्राचार्य डाॅ. सुमन सिंह बघेल सहित लोक निर्माण विभाग नगर पालिक निगम राजनांदगावं के प्रभारी सदस्य माननीय श्री देवशरण सेन और माननीय श्री कन्हैया (सुनील) साहू और अन्य जनभागीदारी सदस्य तथा पार्षद उपस्थित थे।
इस अवसर पर मुख्य अतिथि माननीय श्री मधुसूदन यादव ने मुख्यमंत्री कोष से 10 लाख की लागत से महाविद्यालय में संचालित 10किलो वाट सोलर पैनल का लोकार्पण और बीस लाख की लागत से बनने वाले जिम हाॅल का भूमि पूजन भी किया तथा 86 लाख रु. की स्वीकृति से महाविद्यालय का जीर्णोधार एवं रंगरोगन किए जाने की घोषणा की। महापौर ने अपने संबोधन में महाविद्यालय की गरिमा का उल्लेख करते हुए कहा कि महाविद्यालय की समस्याएं मिल-बैठ कर सुलझायी जा सकती हैं। आपने विश्वास दिलाया की महाविद्यालय की गुणवत्ता विकसित करने के लिए महाविद्यालय की अधोसंरचना हेतु वे हमेशा प्रयासरत रहेंगे। इसी क्रम में उन्होने महाविद्यालय में माॅडल फर्नीचर उपलब्ध कराने के लिए आवश्यकतानुसार राशि उपलब्ध कराने की घोषणा की। मुख्य अतिथि महोदय ने यह भी कहा कि माननीय मुख्यमंत्रीजी की घोषणा के अनुसार अगले सत्र से यहां बीपीएड की कक्षाएं भी प्रारंभ कर दी जायेंगी।
सरस्वती ने ली छात्रसंघ अध्यक्ष की शपथः- समारोह के प्रारंभ में प्राचार्य डाॅ. आर.एन. सिंह ने मनोनित छात्रसंघ की अध्यक्ष कु. सरस्वती को पद की शपथ दिलाई। उसके बाद कु. वीणु जंघेल, नरेन्द्र सिंह ठाकुर और कु. भूमिका साहू ने क्रमशः उपाध्यक्ष, सचिव और सह-सचिव पद की शपथ ली। एम.एस.सी. गणित की प्रतिभाशाली छात्रा सरस्वती ने अपने संबोधन में कहा कि मुझे गर्व है कि मैं दिग्विजय महाविद्यालय जैसी संस्कारी संस्था के छात्रसंघ पदाधिकारी के रुप में शपथ ले रही हूं। यह मेरा सौभाग्य है और मैं अपने पद और गरिमा के अनुकूल महाविद्यालय की मर्यादा के लिए प्रयास करती रहूंगी।
महाविद्यालय में अतिथियों का पारम्परिक ढ़ंग से स्वागत किया गया और प्राचार्य द्वारा उन्हे शाॅल और श्रीफल भेंट कर मंच से विदा किया गया। अतिथियों ने महंत राजा दिग्विजय दास की प्रतिमा पर फूल माला चढ़ाएं और सरस्वती मां की प्रतिमा के समक्ष दीप जलाकर समारोह का शुभारंभ किया। महाविद्यालय की छात्राओं ने सरस्वती वंदना की और स्वागत गीत गाकर अतिथियों को मंचासीन कराया। समारोह के अंत में छात्रसंघ प्रभारी डाॅ. एच.एस. भाटिया ने आभार प्रकट किया। समारोह का संचालन डाॅ. चन्द्रकुमार जैन ने गरिमामय ढ़ंग से किया।

समाज कार्य विभाग द्वारा गांधी जयंती के अवसर पर स्वच्छता अभियान का आयोजन

समाज कार्य विभाग द्वारा एक दिवसीय स्वच्छता अभियान प्राचार्य डा. आर. एन. सिंह के निर्देषन एवं प्रो. विजय मानिकपुरी के नेतृत्व में किया गया। यह कार्यक्रम स्वच्छता ही सेवा है इस उद्देष्य के बारे में बताते गये कार्य क्रम का उद्देष्य है कि हम अपने – आसपास के पर्यावरण को हमेषा स्वच्छ रखना चाहिये। जब हमारे स्वच्छ पास स्वच्छ रखना चाहिये जब हमारे आस-पास के स्थान को स्वच्छ रखेगे तभी हम स्वस्थ्य रह सकते है। इसके अंतर्गत समाज कार्य विभाग के विद्यार्थियों द्वारा महाविद्यालय परिसर, षीतला मंदिर परिसर में सफाई अभियान चलाया गया साथ ही साथ पोस्टर, बैनर और रैली के माध्यम से स्वच्छता का संदेष देते हुए नगर के आस-पास के षहर वासियों को अपने आस-पास के स्थानों को साफ-सफाई रखने कें लिये प्रेरित किये समाज कार्य के विद्यार्थियों द्वारा स्वच्छता का उद्देष्य था कि स्वच्छ भारत मिषन जन स्वच्छता के प्रति जागरूक रहें एवं स्वच्छता को अपने नैतिक कर्तव्य समझते हुए सभी का अपनाना चाहिये स्वच्छता से गंदगियों व बिमारियों का दूर भगाया जा सकता है, स्वच्छता अभियान से प्रत्येक व्यक्ति व समाज को जुड़ना चाहिये स्वच्छता से ही स्वस्थ्य गांव व षहर स्वस्थ्य समाज का निर्माण किया जाता है स्वच्छता के द्वारा विद्यालय महाविद्यालय व सार्वजनिक स्थानों को स्वच्छ रखना आवष्यक है इस प्रकार से भी स्वच्छता को अपनाने के लिये प्रेरित किया गया हैं और अंतिम में सभी को स्वच्छता से ही स्वस्थ्य पर्यावरण व समाज का निमार्ण होगा।
इस कार्यक्रम में प्राचार्य डाॅ. आर. एन. सिंह, प्रो. बी. एल. कष्यप, प्रो. विजय मानिकपुरी, श्री. हरिष चन्द्राकर, व समाज कार्य के विद्यार्थी- खुलाष दास, अनुराग खलखो, बालमुकुन्द वर्मा, वंदना सिंह, केषरी देषमुख, रत्ना, षेफाली तिवारी, रष्मि, वर्शा, रोषन, प्रगति, दुर्गेष, रूपा, विपिन, नीलम, पूजा, रेणु, सााधना, एकता, षोभित, माधुरी, पवन, उमेष, महेन्द्र, स्वाति आदि उपस्थित रहें

 

दिग्विजय महाविद्यालय में निर्वाचक साक्षरता क्लब का आयोजन

शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय में निर्वाचक साक्षरता क्लब के अंतर्गत नोडल अधिकारी प्रो. संजय देवांगन के मार्गदर्शन व निर्देशन में महाविद्यालय के विद्यार्थियों को विभिन्न रोचक क्रियाकलापों के माध्यम से मतदान के लिए जागरूक कराया गया तथा एन.एस.एस. के छात्रों को विभिन्न ग्रामीण स्तर पर भी लोगो को शत प्रतिशत मतदान प्रक्रिया में भाग लेने के लिए प्रशिक्षण भी दिया गया। सत्य ही इस बार चुनाव में प्रयोग किये जाने वाले बी.वी. पैट मशीन की जानकारी भी दी गई। इस कार्यक्रम में एन.एस.एस. अधिकारी प्रो. नूतन देवांगन की भी महत्वपूर्ण भूमिका रही।

दिग्विजय महाविद्यालय में उद्यमिता विकास कार्यक्रम का समापन

शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय के रोजगार एवं मार्गदर्षन प्रकोष्ठ के तत्वाधान में दिनांक 24.09.2018 से प्रारंभ होकर दिनांक 01.10.2018 को लगातार एक सप्ताह चले उद्यमिता विकास कार्यक्रम का समापन हुआ कार्यक्रम के समापन में उर्जा के वैकल्पीक संसाधनो जैसे सोलर उर्जा ,वायु उर्जा एवं जैवीय उर्जा की उपयोगिता पर विषेष रूप से प्रकाष डाला। उद्यमिता विकास कार्यक्रम का महाविद्यालय में यह लगातार तीसरा वर्ष रहा।
इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देष्य यह था कि ऐसे सभी छात्र छात्रायें महाविद्यालय में अध्ययन के पश्चात नौकरी प्राप्त नही कर पाते ऐसे छात्रों को लघु उद्योग स्थापित करनें के लिए प्रेरित करना । इस कार्यक्रम के दौरान लघु उद्योग एवं उससे संबधित संसाधन, सरकारी योजनाएॅ तथा उनका प्रबंध पर सूक्ष्मता पूर्वक जानकारी दी गई। विषय विषेषज्ञ के रूप में प्रो. ए.एस. कार्ले सेवा निवृत्त प्राध्यापक एवं ए.के. वैद्य जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र राजनांदगांव के प्रबंधक ने छात्र छात्राओं स्वरोजगार से संबधित महत्वपूर्ण जानकारीयां प्रदान की। इस कार्यक्रम के अन्तर्गत छात्र छात्राओं को स्थानीय लघु उद्योगो का भ्रमण कराया गया।
ज्ञातव्य हो कि इस उद्यमिता विकास प्रषिक्षण के कार्यक्रम में षासकीय दिग्विजय महाविद्यालय के विज्ञान विषय के स्नातक एवं स्नातकोत्तर के कुल 75 छात्र छात्राओं ने अपनी सहभागिता दी। इस कार्यक्रम में छात्रों ने षिक्षण पूर्ण होने के पश्चात स्वयं का उद्योग कैसे स्थापित किया जाए इस पर विस्तार से प्रषिक्षण प्राप्त किया। कार्यक्रम में लगातार इस विषय पर उद्योग क्षेत्र एवं उद्योग विभाग से जुड़े हुए विषय विषेषज्ञो एवं अधिकारीयों नें छात्रों को प्रषिक्षण प्रदान किया। छात्रों नें विषय पर विस्तृत ज्ञान प्राप्त करनें के लिए कुछ ऐसे लघु उद्योगो का भ्रमण किया जो उन्हे भविष्य में अपनें स्वयं का उद्योग प्रारंभ करनें में सहायक सिध्द होगा। उक्त कार्यक्रम में पावर प्वांइट प्रदर्षन के द्वारा लघु उद्योगो की फिल्में भी छात्रो के मार्गदर्षन के लिए प्रसारित की गई। उक्त अवसर पर प्रतिभागी छात्र छात्राओं को सिटकाॅन के द्वारा प्रमाण पत्र भी प्रदान किये गये। समापन अवसर पर अपने विचार प्रकट करते हुए महाविद्यालय के प्राचार्य डाॅ. आर. एन. सिंह ने रोजगार एवं मार्गदर्षन प्रकोष्ठ के तत्वाधान में संपन्न हुए इस उद्यमिता विकास कार्यक्रम की प्रषंसा की और समिति के सदस्योें एवं छात्र छात्राओं को बधाई एवं षुभकामनायें प्रेषित करते हुए कहा कि इस तरह के कार्यक्रम छात्रों में स्वरोजगार की प्रेरणा देते है और बेरोजगारी की समस्या को हल करनें में सहायक सिद्ध होते है। उन्होने इस समापन कार्यक्रम में छात्र छात्राओं से कहा कि वें सिर्फ नौकरी की तलाष न करें बल्कि स्वयं का उद्योग स्थापित कर जरूरतमंदो को रोजगार भी प्रदान करें। इस सपंूर्ण कार्यक्रम के दौरान कार्यक्रम के संयोजक श्री दीपक गायकवाड एंव रोजगार एवं मार्गदर्षन प्रकोष्ठ के सहासक श्री रवि कुमार साहू सक्रिय रूप से इस कार्यक्रम का सचांलन एवं प्रबंध किया और छात्र छात्राओं को मार्गदर्षन प्रदान किया। कार्यक्रम के समापन अवसर पर रोजगार एवं मार्गदर्षन प्रकोष्ठ के संयोजक डाॅ. संजय ठिसके सदस्य डाॅ. षैलेन्द्र सिंह, डाॅ. के. एन. प्रसाद, डाॅ. एच. एस. अलरेजा, एवं श्री रवि कुमार साहू उपस्थित थे।

‘‘यूथफाॅर एकात्मता’’ प्रतियोगिता में दिग्विजय कालेज को राज्य में सर्वश्रेश्ठ प्रदर्षन का प्रथम पुरस्कार

युवाओं को कथित राज्य युवा आयोग द्वारा आयोजित राज्य सरकार की महात्वा कांक्षी प्रतियोगिता ‘‘यूथफाॅर एकात्मता ’’ में दिग्विजय महाविद्यालय राज्य के मुख्यमंत्री डाॅ. रमन द्वारा ‘‘सर्वश्रेश्ठ प्रदर्षन’’ का प्रथम पुरस्कार प्रदान किया गया। इसी प्रतियोगिता में राज्य भर के सातलाख प्रतियोगियों के बीच दिग्विजय कालेज की एम.एस.सी. रसायनषास्त्र की छात्रा कु. हेमलता ठाकुर ने तृतीय स्थानअर्जित कर इक्कीसहजार रू. इनाम राषि से  मुख्यमंत्री के हाथों सम्मानित की गई ।
संस्था के प्राचार्यडाॅ.आर.एन.सिंह ने प्रतियोगिता के विशय में जानकारी देते हुए बताया कि राज्य युवा आयोग के तत्वाधान में छत्तीसगढ़ राज्य के सभी प्रकार के लगभग 750 महाविद्यालयों के विद्यार्थियों के लिए पांच चरणों में‘‘ युथफार एकात्मप्रतियोगिता’’आयोजित की गई। दिग्विजय महाविद्यालय में प्रो.माजिद अली एवं प्रो त्रिलोकदेव ने नोडलअधिकारी के रूप में पांच चरणों में प्रतियोगिता सम्पन्न कराई। प्रथम चरण में लिखित परीक्षा आयोजित की गई। जिसमें प्रदेष भर में सर्वाधिक दिग्विजय महाविद्यालय से 2736 विद्यार्थियों ने भागलिया। इस चरण में पन्द्रह मिनट में छ0ग0 षासन की किसी एक जनकल्याणकारी योजना के उपर दस वाक्यों में उत्तर लिखना था। प्रथम चरण डाॅ.एच.एस.भाटिया डाॅ.संजय ठिसके, डाॅ.कैलाष देवागंन ने सफलता पूवर्क संपन्न कराया । प्रथम चरण के चयनित प्रथम बीस विद्यार्थियों को आगे के चरणों में मोबाईल द्वारा छ0ग0 की संस्कृति, सामान्य ज्ञान संबंधित प्रष्नों के उत्तर न्यूनतम समय में देने थे। द्वितीय से चतुर्थ चरणों के आयोजन में महाविद्यालय के प्राध्यापकों की टीम श्रीमती सोनलमिश्रा, प्रो.युनुसरजा बेग, प्रो.गोकुलनिशाद, प्रो.प्रियंका सिंह, प्रो.संजय सप्तर्शिप्रो. हिरेन्द्रबहादूर, प्रो.विनय मसियारे ने चयनित विद्यार्थियों को विषेश प्रषिक्षण तथा सहायता प्रदान की । पंचम तथा अन्तिम चरणमें छ0ग0 की महिला सषक्तिकरण आईकाॅन पदम श्रीफूलबासनबाई यादव तथा उनके महिलास्व-सहायता समूह के कार्यो पर तीन मिनट की डाक्यूमेण्टी बनाना था। इसचरण में हिन्दी के प्राध्यापक डाॅ.चन्द्रकुमार जैन का विषेश योगदान एवं मार्गदर्षन रहा। पद्मश्री फूलबासन बाई यादव ने विषेश सहयोग प्रदान कर डाक्यूमेन्टी बनाने में सहायता की जिसके परिणाम पंचम चरण प्रतियोगिता एम.एस.सी. अन्तिम रसायन षास्त्र की छात्रा कु.हेमलताठाकुर ने प्रदेष में तृतीय स्थान अर्जित कर माननीय मुख्यमंत्री डाॅ.रमनसिंह के कर कमलों से इक्कीस हजार से सम्मानित की गई।
प्राचार्य डाॅ.सिंह ने आगे बताया कि ‘‘यूथफार एकात्म’’ प्रतियोगिता महाविद्यालय विद्यार्थियों की पूर्णत‘ आनलाईन संभवत: भारत की सबसे बड़ी प्रतियोगिता है। ऐसे आयोजनों से युवाओं को अपने संस्कृति को जानने समझने तथा एडवांस टेक्नोलाॅजी के सकारात्मक उपयोग करने का प्रोत्साहन मिलता है। उन्हो ने महाविद्यालय टीम तथा छात्रा हेमलता को षुभकामनाएं दी।

तिलक और आजाद ने समाज को दी नयी दिशा-राजनीती विभाग ने मनायी जयंती

राजनांदगाव/ भारतीय राष्ट्रिय अन्दोलन के अग्रपंक्ती के नेताओं में तिलक गरम दल की विचारधारा का प्रतिनिधित्व करते थे। वहीं चंद्रशेखर आजाद एक ऐसे प्रखर देशभक्त थे जिन्होने क्रांती का मार्ग अपनाते हुए स्वतंत्रता आँदोलन में अपना योगदान दिया। उक्त बातें राजनीती विभाग की अध्यक्षा डा अंजना ठाकुर ने तिलक एवं आजाद के व्यक्तित्व पर प्रकाश डालते हुए छात्रछात्राओं से कहीं । अवसर था शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय के राजनीती विभाग में विगत 23 जुलाई को आयोजित ‘तिलक एवं आजाद जयंती कार्यक्रम’ का।

डा ठाकुर ने विद्यार्थियों कों बताया कि भारतीय असंतोष के जनक केशव गंगाधर तिलक का जन्म 23 जुलाई 1856 को हुआ। तिलक ने ही “स्वराज्य मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है,मै इसे लेकर रहूंगा” का नारा दिया तथा भरतीय जनमानस को स्वतंत्रता आँदोलन हेतू तैयार किया। आजाद के व्यक्तित्व पर प्रकाश डालते हुए डा अंजना ठाकुर ने बताया कि 23 जुलाई सन 1906 को भाबरा गांव में जन्मे चंद्रशेखर आजाद बाल्यावस्था से ही क्रांतिकारी व निर्भिक स्वभाव के थे और क्रांती के दम पर स्वतंत्रता पाने में विश्वास रखते थे। दोनो ही महापुरुषों ने समाज को नयी दिशा दी। सभी शिक्षकों ने विद्यार्थियों को आजाद और तिलक के जीवन से प्रेरणा ग्रहण करने की बात कही ।

इस अवसर पर विभाग के प्राध्यापक डा अमिता बक्शी, डा डी सुरेश बाबू, श्री संजय सप्तर्षि उपस्थित रहे। साथ ही बड़ी संख्या में छात्रछात्राओं ने कार्यक्रम में अपनी उपस्थिति दर्ज कराकर सक्रिय सहभागिता दी ।

शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय में गांधी एवं शास्त्री जयंती मनाई गई

शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय मेंराष्ट्रीय सेवा योजना,राष्ट्रीय कैडेटकोर, योगा एवं एम.एस.डब्ल्य ूविभाग के संयुक्त तत्वाधान में गांधी एवं शास्त्री जयंतीमनाईगई।कार्यक्रम के प्रारंभमेंप्रभारीप्राचार्यडाॅ. चन्द्रिकानाथवानी द्वारादोनोंमहापुरूषों के जीवन परप्रकाशडालागया एवंउपस्थितसभीप्राध्यापकों एवंविद्यार्थियोंसे ऐसेमहापुरूषों के जीवन के अच्छाईयोंकोग्रहणकरने की अपील की गई।
इसअवसरपरविद्यार्थियोंनिलेशसिन्हा, कु. पुजासाहू, पवनकुमार व कु. धनेश्वरीसाहू ने भीइनमहापुरूषों के जीवनीपरविचारव्यक्तकियातथा यह संकल्पलियाकिहमइनमहापुरूषों के कार्योकोआत्मसातकरेंगे।योगशिक्षिकानीरा सिंह द्वाराविद्यार्थियोंकोनशासेदूररहनेकीसलाहदी, उन्होंनेकहा यदिआपनशे के चपेटमेंआभीगयेहैतो योग के माध्यम सेआपइससेदूरहोसकतेहैं।
इसअवसरपरसभीछात्र-छात्राओं एवंप्राध्यापकों के द्वारामहाविद्यालय परिसर की सफाई की गईतथासभी ने स्वच्छता शपथलेतेहुए महाविद्यालय परिसरतथाअपनेआस-पास के परिसरकास्वच्छ रखनेकासंकल्पलिया।कार्यक्रममें एन.सी.सी. अधिकारीप्रो. संजय कुमारदेवांगन एन.एस.एस. अधिकारीप्रो. संजय सप्तर्षि, प्रो. नूतनकुमारदेवंागन, योगाविभाग के डाॅ एच.एस. अलरेजा , नीरा सिंह, एम.एस. डब्ल्यूविभागसेविजय मानिकपुरीसहितमहाविद्यालय के अधिकारी एवंकर्मचारीउपस्थितथे।कार्यक्रमकाप्रभावशालीसंचालनडाॅ. एच.एस.अलरेजा द्वाराकियागया।आभारप्रदर्शनप्रो.संजय देवांगन द्वाराकियागया।

सशक्त लोकतंत्र में युवा महत्वपूर्ण भूमिका निभाए – श्री भीमसिंह

शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय में मतदाता जागरुकता अभियान के अंतर्गत उक्त बाते जिलाधीश श्री भीमसिंह द्वारा कहीं गई। श्री भीमसिंह ने युवा मतदाताओं को जागरुक करते हुए कहा कि वे अधिक से अधिक संख्या में मतदान करते हुए राष्ट्र के निर्माण में अपना महत्वपूर्ण भूमिका निभाएं। इस अवसर पर वी.वी.पी.ए.टी. मशीन से संबंधित सभी बातो पर उन्होने विस्तार से प्रकाश डाला और प्रदर्शन के माध्यम से यह बतलाया कि उक्त मशीन का विश्वसनीयता पर प्रश्न चिन्ह नही उठाया जाना चाहिए। उन्होने युवा से अपील की वे अपने आस-पास रहने वाले दिव्यांग मतदाताओं को भी मतदान केन्द्र ले जावे तथा उनसे अधिक से अधिक मतदान हेतु प्रेरित करे। उन्होने महाविद्यालय के 2000 से अधिक छात्र/छात्राओं को मतदान करने हेतु शपथ दिलाई। जिला पंचायत सी.ई.ओ. श्री चंदन कुमार ने कहा कि लोकतंत्र का महापर्व आने वाला है । इसमें युवाओं की भागीदारी अधिक से अधिक होने चाहिए। युवा मतदाता अपने वोट का महत्व समझे तथा स्वयं सौ प्रतिशत मतदान कर तथा अपने आस-पास रहने वालो को भी निष्पक्ष मतदान करने हेतु प्रेरित करे। युवा मतदाताओं की भागीदारी से जिले में अधिक से अधिक मतदान हो जिससे मतदान का प्रतिशत बढ़ाया जा सके। महाविद्यालय प्राचार्य डाॅ. आर.एन. सिंह ने भी मतदान के महत्व पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम का संचालन स्वीप प्लान के नोडल अधिकारी डाॅ. शैलेन्द्र सिंह द्वारा किया गया। इस अवसर पर उप जिला निर्वाचन अधिकारी श्री ओकार यदु जिला नोडल अधिकारी श्रीमती रश्मि सिंह कैम्पस अम्बेसडर संतराम वर्मा तथा चंदन साहू सहित महाविद्यालय के 2000 से अधिक छात्र/छात्राएं उपस्थिति थे। वी.वी.पी.ए.टी. का प्रदर्शन मास्टर टेªनर डाॅ. संजय ठिसके एवं डाॅ. कैलाश देवांगन द्वारा किया गया।