संस्कृत साहित्य परिषद् का गठन एवं संस्कृत संभाषण शिविर का समापन समारोह संपन्न

        शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय के संस्कृत विभाग द्वारा संस्कृत भारती के सहयोग से 04/09/2018से 22/09/2018 तक संस्कृत संभाषण शिविर का आयोजन किया गया था।दिनांक 04/10/18 को इस शिविर का समापन समारोह विभागाध्यक्ष डॉ दिव्या देशपांडे के मार्गदर्शन में तथा प्राचार्य डॉ आर एन सिंह की गरिमामय उपस्थिति में  सफलता पूर्वक सम्पन्न हुआ।इसी अवसर पर संस्कृत साहित्य परिषद् का भी गठन किया गया।संस्कृत साहित्य परिषद केअध्यक्ष के रूप में कु चेसवनी, उपाध्यक्ष कु.शैलेष स्नातकोत्तर तृतीय सेमेस्टर,सचिव श्री परसोत्तम तथा सहसचिव के रूप में कु आभा वर्मा स्नातकोत्तर प्रथम सेमेस्टर का मनोनयन प्रावीण्यता सूची के आधार पर किया गया।कार्यक्रम का प्रारंभ वैदिक मंत्रोच्चारण,दीप प्रज्वलन एवं  सरस्वती वंदना के साथ हुआ।इस अवसर पर विद्यार्थियों द्वारा दूरवाणी संभाषण, परस्पर वार्तालाप, अनुभव कथन ,संस्कृत गीत गायन आदि कार्यक्रम प्रस्तुत किये गए।।प्राचार्य डॉ आर एन सिंह ने संस्कृत साहित्य परिषद के मनोनीत पदाधिकारियों को शुभकामनाएं देते हुए उन्हें उनके कर्तव्यो से अवगत कराया।साथ ही संस्कृत के व्यावहारिक उपयोग एवं रोजगार की संभावनाओं पर प्रकाश डाला।कार्यक्रम के अंत मे शिविर में सहभागी हुए विद्यार्थियों को प्रमाणपत्र प्रदान किये गए।कार्यक्रम का संचालन स्नातकोत्तर तृतीय सेमेस्टर के छात्र श्री तरुण देवांगन तथा कु चेसवनी ने किया।आभार प्रदर्शन श्री ललित प्रधान आर्य द्वारा किया गया।सम्पूर्ण कार्यक्रम संस्कृत भाषा में ही संपन्न हुआ।इस अवसर पर हिंदी विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ शंकर मुनि राय, संभाषण शिविर के प्रशिक्षक श्री राकेश वर्मा , श्री संदीप पटेल तथा  विशेष रूप से उपस्थित रहे।शान्ति पाठ के साथ कार्यक्रम का समापन किया गया।