दिग्विजय काॅलेज में दीक्षांत एवं पदक वितरण समारोह संपन्न -मुख्यमंत्री ने छात्रावास और आॅडिटोरियम विस्तार के लिए दिये निर्देष

01 फरवरी 2019 । प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के मुख्य आतिथ्य और पूर्व सासंद माननीया श्रीमती करुणा शुक्ला की अध्यक्षता में आज शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय का 61वां दीक्षांत एवं पदक वितरण समारोह गरिमामय ढ़ग से संपन्न हुआ। इस अवसर पर विभिन्न कक्षाओं में उत्कृष्ठ स्थान प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को स्वर्ण पदक सहित खिलाडियों एवं प्राध्यापकों को उनके विशेष कार्य के लिए प्रशस्ति पत्र प्रदान किये गये। इस अवसर पर महाविद्यालय द्वारा मुख्य अतिथि महोदय को अभिनंदन पत्र प्रदान कर उनके प्रति सम्मान प्रकट किया गया। कार्यक्रम के अध्यक्ष माननीया श्रीमती करुणा शुक्ला ने महाविद्यालय के विद्यार्थियों को जीवन का लक्ष्य निर्धारित करने तथा उसके अनुरुप कार्ययोजना तैयार करने की सीख दी।
समारोह में विशिष्ठ अतिथि के रुप में डोंगरगांव विधायक माननीय श्री दलेश्वर साहू, खुज्जी विधायक माननीया श्रीमती छन्नी साहू, डोंगरगढ़ विधायक माननीय श्री भुनेश्वर बघेल सहित जिला पंचायत अध्यक्ष माननीया श्रीमती चित्रलेखा वर्मा, समाजसेवी माननीय श्री दिनेश शर्मा, माननीय श्री नवाज खान, माननीय श्री निखिल द्विवेदी, माननीय श्री कुलदीप छाबड़ा (पार्षद), श्री आकाश शर्मा सहित नगर के प्रतिष्ठित नागरिक, अभिभावक और पूर्व छात्र/छात्राएं उपस्थित थे।
मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली बार महाविद्यालय के समारोह में मुख्य अतिथि के रुप में पधारे, माननीय श्री भूपेश बघेल जी का स्वागत महाविद्यालय के मुख्य द्वार से लेकर मंच पर पहुंचने तक राउत नाचा, स्वस्ति वाचन और एन.सी.सी. कैडेट द्वारा गार्डस आॅफ आनर के साथ किया गया। सरस्वती पूजन एवं वंदना, स्वागत गान के बाद संस्था प्रमुख प्राचार्य डाॅ. आर.एन. सिंह ने सबसे पहले मुख्य अतिथि सहित मंचासिन अतिथियों का महाविद्यालय परिवार की ओर से स्वागत किया। इसके बाद महाविद्यालय के वरिष्ठ प्राध्यापकों , रजिस्ट्रार एवं कर्मचारियों ने मुख्य अतिथि को पुष्प गच्ुछ प्रदान कर स्वागत किया। जिला प्रशासन की ओर जिला कलेक्टर श्री भीम सिंह और पुलिस कप्तान श्री कमल लोचन कश्यप ने मुख्यमंत्री का स्वागत किया।
याद आये विजय पाण्डे-मुख्यमंत्री मंच पर बोलने के लिए खडे हुए तो उन्होने महाविद्यालय के पूर्व छात्र, (पूर्व महापौर) स्व. श्री विजय पाण्डे जी को याद करते हुए भाव विहवल हुए। उन्होंने कहा कि आज पाण्डेय जी होते तो इस मंच पर उनकी उपस्थिति से समारोह की गरिमा बढ़ जाती।
इस अवसर पर माननीय मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने अपने संबोधन में कहा कि शिक्षा के ़क्षेत्र में विकास के लिए प्रदेश में वित्तीय संकट नही होगी। आपने महाविद्यालय में छात्रावास निर्माण, आॅडिटोरियम विस्तार और सोमनी कालेज में अध्यापन कार्य संचालित करने के निर्देश दिये। आपने कहा कि देश के समस्त महाविद्यालयों में शिक्षकों की कमी दूर करने के लिए 1500 प्राध्यापकों की भर्ती की प्रक्रिया प्रारंभ कर दी गई है। इसी प्रकार प्रदेश के सभी जिलों में रोजगार परक प्लांट लगाने की दिशा में नई सरकार कार्य करना शुरु कर दिया है।
महाविद्यालय के प्राचार्य डाॅ. आर.एन. सिंह ने अपने स्वागत संबोधन में कहा कि यह महाविद्यालय रोजगार परक शिक्षा के लिए निरंतर प्रतिबद्ध है। यहां 5078 नियमित विद्यार्थियों सहित लगभग 9000 स्वाध्यायी विद्यार्थियों के साथ अध्यापन कार्य संचालित है। इसलिए अध्यापन कक्ष का विस्तार जरुरी है। समारोह में मनोनीत छात्रसंघ अध्यक्ष कु. सरस्वती जैन ने अपने संबोधन में माननीय मुख्यमंत्री का ध्यान आर्कर्षित करते हुए साइकल स्टैण्ड के विस्तार की मांग की। समाजसेवी श्री निखिल द्विवेदी ने कहा कि नई सरकार प्रदेश के शिक्षण संस्थाओं में व्याप्त प्राध्यापकों की कमी दूर करने की प्रक्रिया शुरु कर दी है।

महंत राजा दिग्विजय दास स्मृति पुरस्कार – मंहत राजा दिग्विजय दास की स्मृति में प्रत्येक वर्ष महाविद्यालय द्वारा दिये जाने वाला प्रदेश स्तरीय निबंध प्रतियोगिता का पहला पुरस्कार साइंस कालेज दुर्ग की छात्रा भूमिका तिवारी को, दूसरा पुरस्कार पी.जी. कालेज जगदलपुर की छात्रा अरुणिमा वासू राय, तथा तीसरा पुरस्कार रायपुर के बजरंग महिला दूधाधारी की छात्रा कु. श्रुति मिश्रा को प्रदान किया गया। पुरस्कार स्वरुप इन्हें क्रमश 7000 हजार 5000 हजार एवं 3000 हजार की राशि सहित प्रशस्ति पत्र प्रदान किये गये।
अध्ययन, अध्यापन एवं अनुसंधान के लिये विशेष सम्मान-
महाविद्यालय में विशेष अध्ययन, अध्यापन और अनुसंधान के क्षेत्र में किये गये महत्वपूर्ण कार्य के लिए हिन्दी विभाग को प्रथम, प्राणीशास्त्र को द्वितीय एवं रसायनशास्त्र को तृतीय स्थान प्रदान करते हुए प्रशस्ति पत्र और पुरस्कार राशि प्रदान की गई।
बेस्ट लाईबे्ररी यूजर पुरस्कार- ग्रंथालय में सर्वाधिक पुस्तकों के अध्ययन और उसके उपयोग के लिए डाॅ. संजय ठिसके, डाॅ. एच.एस. अलरेजा को सम्मानित किया गया।
रामचंद्र मिषन सम्मान- रामचंद्र मिशन द्वारा आयोजित राष्ट्रीय निबंध प्रतियोगिता में उत्कृष्ट स्थान प्राप्त करने वाले महाविद्यालय के पांच विद्यार्थियों को सम्मानित किया गया। इस प्रतियोगिता में सर्वश्रेष्ठ संयोजक के लिए प्राचार्य डाॅ. आर.एन. सिंह और डाॅ. चन्द्रकुमार जैन को संस्था से प्राप्त प्रशस्ति पत्र मुख्यमंत्री के हाथों प्रदान किया गया। माननीय मुख्य अतिथि महोदय ने प्रावीण्यता प्राप्त विद्यार्थियों को स्वर्ण मंडित पदक प्रदान किये। साथ ही इन्होंने एड-आॅन कोर्स के विद्यार्थियों को भी प्रमाण पत्र वितरित की और उन्हें शुभकामनाएं दी। सम्याभाव के कारण मुख्य अतिथि के जाने के बाद शेष स्वर्ण पदक प्राचार्य डाॅ.आर.एन. सिंह के हाथों वितरित किये गये।
समारोह के अंत में महाविद्यालय के छात्र/छात्राओं द्वारा रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये गये। इसमें एकल गीत, समूह गीत, एकल नृत्य, समूह नृत्य, नाटक, प्रहसन एवं मिमिक्रि जैसे रोचक कार्यक्रम का आनंद नगर के प्रबुद्ध जनो सहित युवक युवती, बच्चे ने उठाये। कार्यक्रम के अंत में प्राचार्य डाॅ. आर.एन. सिंह ने सभी के प्रति आभार प्रकट किये। कार्यक्रम का संचालन डाॅ. चन्द्रकुमार जैन ने अत्यंत ही रोचक एवं प्रभावशाली ढ़ग से किया।